Aaj Fir Yaad Aa Rahe Ho Hindi Poetry Of Shekhar Sharma

आज फिर याद आ रहे हो

जितना भूलना चाहा तुम्हे उतना ही याद आ रहे हो
यार क्यूं तड़पा रहे हो

जितना नजदीक आना चाहा उतना ही दूर जा रहे हो
सुन न क्यूँ सता रही हो

उन बेफजूल की बातें को क्यूं दुहरा रहे हो
मेरी तेरी लड़ाई को क्यूं दुनिया को बता रहे हो
यार क्यों दीवाने को सात रही हो

तुम्हारी आवाज सुनकर मुझे नींदें आ जाती थी
अब क्यूं पूरी रात जगा रहे हो
यार क्यूं दिल दुखा रहे हो
आज फिर याद आ रहे हो

जो हमेशा कभी मेरी हंशी सुनने को तरसती थी
अब क्यों ऐसे रुला रही हो
यार बहुत याद आ रही हो

क्या गलती की है मैंने क्या भूल हुआ है मुझसे
आखिर क्यूँ नाराजगी जता रहे हो
यार ऐसे क्यूं तड़पा रही हो
आज फिर याद आ रही हो

पहले तो हवा की छोटी सी झोंकों से डरती थी
अब क्यूं बारिशों में पतंगे उड़ा रही हो
आखिर क्यूं सचे आशिक़ को तड़पा रही हो
जान आज फिर याद आ रही हो

तुम तो मेरे साथ कदम से कदम मिलाकर
चलने की कसम खाई थी न
अब क्यूं अकेली जा रही हो
सुनो न बहुत याद आ रहे हो

जो आंखे हमेशा मुझे देखा करती थी
जिसके नजरें हमेशा झुंकि रहती थी
अब क्यूं सब को आंखे दिखा रहे हो
स्वीट हार्ट आज फिर याद आ रही हो

मेरी खत के लिए घंटो इन्तेजार करती थी
अब क्यूं उस खत को जला रही हो
यार ऐसे क्यूं तड़पा रहे हो
जान आज फिर बहुत याद आ रहे हो

पहले तो आशिक़ माना था
अब क्यूं शेखर को बेवफा बता रहे हो
सच्ची बोल रहा हूँ वापस आ जाओ
तुम्हारी जरूरत है मुझे
तुम बहुत याद आ रहे हो
अब आ भी जाओ जान
अब क्यों नखरे दिखा रहे हो
आज फिर याद आ रहे हो

Aaj phir yaa Aa rhe ho

jitna bhulna chahaa utnaa hee yaad aa rhe ho
yaar q tadpa rhe ho
jitna najdik aana chaha utna hee door ja rhe ho
yaar q tadpa rhe ho
un befujul ki baaton ko q duhra rhe ho
meri teri ldaai ko q duniyaa ko bata rhe ho
yaar q sata rhe ho
tumhaari awwaj sunkr mujhe ninden aa jati thi
ab q puri raat jaga rhe ho
yaar aaj phir yaad aa rhe ho
jo meri hnshi sunne ko kabhi tarsti thi
jo hmesha mere dil me basti thi
ab q rula rhe ho
yaar bhut yaad aa rhe ho
kya glti ki hi maine kya bhool huaa hi mujhse
Aakhir q naarajgi jata rahe ho
yaar Aaj phir yaad aa rhe ho
phle to hnwaa ki chhoti si jhonk se darti thi
Ab q Aandhiyon me patnge uda rhe ho
yaar Aaj phir yaad aa rhe ho
Tumne to mere saath kadm se kdm milakr chlne ki kasam khai thi na
Ab q akele jaa rhe ho
yaar aaj phir yaad aa rhe ho
jiski najren hmesha jhoonki rhti thi
Ab q aankhen dikha rhe ho
aaj phir yaad aa rhe ho
meri kht ke liye ghnton intejaar krti thi
Ab us kht ko q jala rhe ho
yaar aaj phir yaad aa rhe ho
phle aashiq maana tha
Ab q shekhar ko bewfa bata rhe ho
yaar q tadpa rhe ho

Leave a Comment