Wo Insaan Mujhe Achha Lagta hai – Romentic Hindi Poetry – Shekhar Sharma

वो तितलियों को उड़ते हुए देखना
घना घोर बारिश में मोरों को नाचना
आसमान में जगमगाता तारें गिनना
मुझे अच्छा लगता है
बिन पूछे जो मेरी खवाइश को जान ले
वो इंसान मुझे सच्चा लगता है

मेरे रातों के ख़्वाबों में उसका आना
गुड नाईट से गुड मोर्निंग कह जाना
जिसमे अलग रहकर भी पास है
वो रिश्ता मुझे अच्छा लगता है
बिन पूछे जो मेरी खवाइश को जान ले
वो इंसान मुझे सच्चा लगता है

सामने आकर उसका छुप जाना
भोली भाली बातों से मुझे सताना
वो कहता है परेशान करता हूँ तुम्हे
उसका परेशान करना भी
मुझे अच्छा लगता है
बिन पूछे जो मेरी खवाइश को जान ले
वो इंसान मुझे सच्चा लगता है

शेखर शर्मा

Leave a Comment