अब तुम्हे मुझसे रुसवाई क्यू ? Hindi Poetry By Shekhar Sharma

जब  मुझसे कुछ था ही नहीं, तो मेरे सामने बालों को यूँ सम्भाली थी क्यू, जब कुछ बातें ही नहीं …

Read moreअब तुम्हे मुझसे रुसवाई क्यू ? Hindi Poetry By Shekhar Sharma

सचमें जिन्दगी भर साथ निभाओगी Hindi Poetry By Shekhar Sharma

create dairy

एक लड़की थी बहुत ही खुबशुरत जितनी वह सुन्दर थी उतनी ही इमनादर ना किसीसे से झूठ बोलना न किसी …

Read moreसचमें जिन्दगी भर साथ निभाओगी Hindi Poetry By Shekhar Sharma